राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था की जीवन रेखाए Class 10th Geography Chapter 7 (RCSCE Question Bank 2024 Complete Solution)

हम “राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था की जीवन रेखाए” के सभी Objective , Very Short Answer Type और Short Answer Type , Essay type question answers प्रश्नों का जवाब देने वाले हैं , हम आपको इसके Solutions (Answer Key) के साथ साथ आपको इसका पीडीएफ़ फाइल भी अंतिम रूप से देंगे और आप राजस्थान बोर्ड क्लास 10th Samajik Vigyan Complete solution pdf 2024 जो की Shala darpan Class 10th pdf 2024 के द्वारा जारी किया गया पीडीएफ़ हैं , इसके सभी सवालों का जवाब आपको इस पोस्ट के जरिए मिलने वाला हैं , rashtriya arthvyavstha class 10th rcsce question bank solution pdf, class 10th geography chapter 7 important questions,

वस्तुनिष्ठ प्रश्न

1. निम्न में से कौनसा राज्य हजीरा-विजयपुर-जगदीशपुर पाइप लाइन से नहीं जुड़ा है –

(अ) मध्यप्रदेश (ब) महाराष्ट्र (स) गुजरात (द) उत्तरप्रदेश ( )

2. निम्नलिखित में से परिवहन का कौनसा साधन वहनान्तरण हानियों तथा देरी को घटाता है?

(अ) रेल परिवहन (ब) सड़क परिवहन (स) पाईपलाईन परिवहन (द) जल परिवहन ( )

3. निम्न में से कौनसे दो दूरस्थ स्थित स्थान पूर्वी-पश्चिमी गलिारे से जुड़े है?

(अ) मुम्बई तथा नागपुर (ब) सिलचर तथा पोरबंदर (स) मुम्बई तथा कोलकात्ता (द) नागपुर तथा सिलिगुड़ी ( )

4. निम्न में से कौनसा परिवहन साधन भारत में प्रमुख साधन है?

(अ) पाईपलाईन (ब) रेल परिवहन (स) सड़क परिवहन (द) वायु परिवहन ( )

5. निम्न में से कौनसा शब्द दो या अधिक देशों के व्यापार को दर्शाता है?

(अ) आंतरिक व्यापार (ब) अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार (स) बाहरी व्यापार (द) स्थानीय व्यापार ( )

6. भारत का प्राचीनतम कृत्रिम पत्तन है –

(अ) विशाखापट्टनम् (ब) हल्दिया (स) चैन्नई (द) मुम्बई ( )

7. भारत में प्रथम रेलगाड़ी चलाई गई थी –

(अ) 1853 में (ब) 1857 में (स) 1863 में (द) 2010 में ( )

8. भारतीय रेल परिवहन को कितने रेल प्रखंडो में पुनः संकलित किया गया है ?

(अ) 16 (ब) 14 (स) 12 (द) 10 ( )

9. स्वर्णिम चतुर्भुज महाराजमार्ग की सड़क कितने लेन वाली बनाई गई?

(अ) 3 (ब) 4 (स) 5 (द) 6 ( )

10. भारत का सड़क जाल लगभग कितने लाख किमी. है?

(अ) 56 लाख (ब) 66 लाख (स) 76 लाख (द) 86 लाख ( )

उत्तर:- 1. ब, 2. स, 3. ब, 4. स, 5. ब, 6. स, 7. अ, 8. अ, 9. द, 10. अ

रिक्त स्थानों की पूर्ति  करो

11. देश में पाईप लाईन परिवहन के ……………………… प्रमुख जाल है। (तीन)

12. भारत के लोग प्राचीन काल से ……………………… यात्राएँ करते रहे है। (समुद्री)

13. हल्दिया तथा इलाहाबाद के मध्य ……………………… जल मार्ग है। (गंगा )

14. दूरसंचार तंत्र में भारत एशिया महाद्वीप में ……………………… है। (अग्रणी)

15. समाचार पत्र लगभग ……………………… भाषाओं तथा बोलियों में प्रकाशित होते है। (100)

अति लघुत्तरात्मक प्रश्न

1. जिला मार्ग से आप क्या समझते हैं?

जो सड़कें जिले के विभिन्न प्रशासनिक केन्द्रों को जिला मुख्यालय से जोड़ती हैं, उन्हें जिला मार्ग कहा जाता है

2. भारत का सबसे बड़ा सार्वजनिक क्षेत्र का प्राधिकरण कैनसा है?

सही उत्‍तर भारतीय रेलवे है।

3. भारत में तीन रेल गेज कौन-कौनसे है?

भारत में 4 प्रकार के रेलवे गेज का उपयोग किया जाता है। ब्रॉड गेज, मीटर गेज, नैरो गेज और स्टैंडर्ड गेज (दिल्ली मेट्रो के लिए)।

4. पाईपलाईन परिवहन से क्या अभिप्राय है?

पाइपलाइन परिवहन-पाइपलाइनों का सर्वप्रमुख उपयोग जल, पेट्रोलियम तथा प्राकृतिक गैस जैसे तरल व गैसीय पदार्थों के अबाधित परिवहन के लिए किया जाता है।

5. परिवहन से आप क्या समझते हैं?

परिवहन-वस्तुओं तथा यात्रियों को एक स्थान से दूसरे स्थान तक ले जाने की प्रक्रिया को परिवहन कहते हैं।

6. व्यापार से आप क्या समझते हैं?

व्यापार को एक आर्थिक अवधारणा के रूप में जाना जाता है जो वस्तुओं की खरीद और बिक्री से जुड़ी होती है।

7. स्वर्णिम चतुर्भुज महाराजमार्ग योजना किन-किन स्थानों को मिलाती है?

यह राष्ट्रीय राजमार्ग दिल्ली हरयाणा बिहार झारखंड महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, गुजरात, कर्नाटक, उड़ीसा और आंध्र प्रदेश राज्यों से होकर जाता है

8. पूर्व-पश्चिम गलियारा किन दो क्षेत्रों को जोड़ता है?

गुजरात-राजस्थान-मध्यप्रदेश-उत्तर प्रदेश–बिहार-पश्चिम बंगाल-असम है। पूर्व-पश्चिम गलियारा गुजरात-राजस्थान-मध्यप्रदेश-उत्तर प्रदेश–बिहार-पश्चिम बंगाल-असम से होकर गुजरता है। स्वर्णिम चतुर्भुज का पूर्व-पश्चिम गलियारा भारत में सिलचर और पोरबंदर शहरों को जोड़ता है।

9. भारत के दो अन्तः स्थलीय जलमार्गों के नाम बताइए?

(I) हल्दिया से फरक्का – 560 k.m. (II) फरक्का से पटना – 460 k. m. (III) पटना से इलाहाबाद – 600 k.m .

10. पर्यटन उद्योग में कितने लाख से अधिक व्यक्ति प्रत्यक्ष रूप से स ंलग्न है?

150 लाख से अधिक

11. सड़क निर्माण में प्रयुक्त पदार्थ के आधार पर सड़के कितने प्रकार की होती है?

सड़क चार प्रकार का होता है जैसे कि नेशनल हाईवेज, स्टेट हाईवेज, डिस्ट्रिक्ट रोड, और विलेज रोड . प्रयुक्त सामग्री के आधार पर सड़कों को दो श्रेणियों में वर्गीकृत किया जा सकता है: पक्की सड़कें सीमेंट, कंक्रीट या कोलतार से बनी हो सकती हैं । ये हर मौसम के लिए उपयुक्त सड़कें हैं। कच्ची सड़कें धूल भरी और कीचड़ भरी सड़कें होती हैं जो बरसात के मौसम में उपयोग से बाहर हो जाती हैं।

लघुत्तरात्मक प्रश्न

1. परिवहन और संचार में क्या अंतर है?

परिवहन:- किसी सामान या यात्रियों को एक स्थान से दूसरे स्थान तक ले जाने के कार्य को परिवहन कहते हैं। संचार:- संचार एक ऐसी व्यवस्था है जिससे दो प्राणी विभिन्न माध्यमों के द्वारा सूचनाओं का आदान-प्रदान करते हैं।

अधिकतर सड़क परिवहन की स्थिति बहुत बुरी होती है। यह वर्षा के समय गंदे हो जाते हैं। शहरों में यह अत्यधिक संकीर्ण होते हैं। सर्वाधिक राजमार्गों की तरफ टेलिफोन बूथ, पुलिस स्टेशन आदि सुविधाओं की कमी होती हैं।

भारतीय डाक सेवा भारत सरकार द्वारा संचालित एक राष्ट्रीय संगठन है जो देशभर में डाकियों के माध्यम से डाक, जनता भंडारण, वित्तीय सेवाएं और अन्य संबंधित सेवाएं प्रदान करती है। यह भारतीय डाक संगठन अधिनियम 1885 के तहत स्थापित किया गया था और वर्तमान में “डाक सेवा” या “भारतीय डाक” के नाम से प्रस्तुत है

कोलकाता, हल्दिया, पारादीप, विशाखापत्तनम, चेन्नई, एन्नोर एवं तूतीकोरिन पूर्वी तट के मुख्य बंदरगाह हैं।

भारत के पास दुनिया का सबसे बड़ा डाक नेटवर्क है।  वर्तमान में टेलीविजन उद्योग हजारों भारतीयों को रोजगार देने वाला एक बहुत बड़ा उद्योग है। इसने मीडिया और मनोरंजन उद्योग को भी बढ़ावा दिया है

स्थल परिवहन के अन्तर्गत सड़क एवं रेलमार्ग द्वारा आवागमन सम्मिलित किया जाता है। इन दोनों के बीच रेल परिवहन अपेक्षाकृत अधिक नूतन है।

किसी एक देश का दूसरे देश से व्यापार का यही कारण है और इसी व्यापार को अंतर्राष्ट्रीय व्यवसाय कहते हैं। है

सड़कों को छह प्रकारों में वर्गीकृत किया गया है: राष्ट्रीय राजमार्ग, राज्य राजमार्ग, जिला सड़कें, ग्रामीण सड़कें, सीमा सड़कें और एक्सप्रेसवे। राष्ट्रीय राजमार्ग वे सड़कें हैं जो एक राज्य को दूसरे राज्य से जोड़ती हैं और महत्वपूर्ण बंदरगाहों को भी जोड़ती हैं।

राष्ट्रीय राजमार्ग सड़क के बुनियादी ढांचे की रीढ़ हैं जो भारत के हर प्रमुख शहर को जोड़ती है चाहे बंदरगाह, राज्यों की राजधानी हो इत्यादि. राष्ट्रीय राजमार्ग (NH) यात्रियों और वस्तुओं के अंतर-राज्यीय आवागमन के लिये देश की महत्त्वपूर्ण सड़कें हैं। ये सड़कें देश में लंबाई और चैड़ाई में आर-पार फैली हुई हैं तथा राष्ट्रीय एवं राज्यों की राजधानियों, प्रमुख पत्तनों, रेल जंक्शनों, सीमा से लगी हुई सड़कों तथा विदेशी राजमार्गों को जोड़ती हैं

जल परिवहन सबसे सस्ता परिवहन है क्योंकि इसमें घर्षण न्यूनतम होता है अतः प्रति किलोमीटर प्रति किलोग्राम भार वहन के लिए न्यूनतम इंधन की आवश्यकता होती है। २. जल परिवहन सामान्य सड़क यातायात को भीड़-भाड़ से मुक्त करता है जिससे कि सड़क परिवहन में आसानी बनी रहती है

सड़क परिवहन रेल परिवहन की तुलना में अधिक महत्वपूर्ण इसलिए है, क्योंकि सड़क परिवहन की पहुँच छोटे-छोटे क्षेत्रों तक हो जाती है, जबकि रेल परिवहन की पहुँच हर जगह संभव नहीं है। सड़क मार्ग को बनाने में कम लागत आती है, जबकि रेल पटरियां बिछाने में अधिक लागत आती है।

स्थानीय और अंतर्राष्ट्रीय व्यापार ने भारत की अर्थव्यवस्था को जीवंत बना दिया है। इससे हमारा जीवन और भी सुखमय हो गया है और इससे जिंदगी जीने के लिये जरूरी सुख सुविधाओं का विकास हुआ है। इन्हीं कारणों से परिवहन तथा संचार के साधन को किसी देश की जीवन रेखा तथा अर्थव्यवस्था कहा जाता है।

पाइप लाइन परिवहन से लाभ : तरल पदार्थों में गैस की लंबी दूरियों के परिवहन के लिए पाइपलाइन परिवहन का सर्वाधिक सुविधाजनक एवं सक्षम साधन है। … पाइपलाइन परिवहन में ऊर्जा की बचत होती है। समुद्री जल में भी पाइपलाइन बिछाना संभव है। इसमें समय की बचत होती है तथा इससे प्रदूषण भी नहीं होता है।

जनसंचार: प्रत्यक्ष संवाद के बजाय किसी तकनीकी या यान्त्रिक माध्यम के द्वारा समाज के एक विशाल वर्ग से संवाद कायम करना जनसंचार कहलाता है। 3. जनसंचार के माध्यम: अखबार, रेडियो, टीवी, इंटरनेट, सिनेमा आदि.

भारत के पश्चिमी तट पर स्थित प्रमुख पत्तन भारत के पश्चिमी तट पर स्थित प्रमुख पत्तन हैं- ⦁    कांडला, ⦁    मुम्बई, ⦁    जवाहरलाल नहेरू पत्तन, न्हावाशेवा, मुम्बई, ⦁    मार्मागाओ, ⦁    न्यू मंगलौर तथा ⦁    कोच्चि

वायु यातायात सस्ती तथा भारी वस्तुओं के परिवहन के लिए उपयुक्त नहीं है। इससे पहाड़ी क्षेत्रों या अन्य दुर्गम क्षेत्रों में जहाँ जल परिवहन अथवा थल परिवहन संभव नहीं होता है, वहाँ भी छोटे वायुयानों या हैलीकॉप्टरों द्वारा यात्रियों तथा सामानों को पहुँचाया जा सकता है।

परिवहन तंत्र द्वारा यात्रियों एवं सामान को एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाया जाता है। यह उत्पादन एवं वितरण की प्रक्रिया में बहुत सहायक है। इसके अलावा परिवहन उपभोक्ताओं तक सामान को पहुंचाने में सहायता करते हैं। संचार, दो विभिन्न स्थानों, लोगों अथवा संस्थाओं के मध्य संदेश एवं सूचनाओं के आदान प्रदान की प्रक्रिया है।

संचार सामाजिक व आर्थिक विकास के आधार स्तम्भ हैं। इनके अभाव में विकास का मार्ग अवरुद्ध हो जाता है। तैयार माल को बाजार एवं उपभोक्ता तक पहुँचाने की प्रक्रिया एवं त्वरित सूचनाएँ परिवहन और संचार माध्यमों से पूरी होती हैं। परिवहन व संचार सेवाएँ वस्तु, सूचना और मनुष्य को गतिशीलता प्रदान करती हैं। ⦁    आधुनिक समाज वस्तु के उत्पादन, वितरण और उपभोग में सहायता देने के लिए तीव्र और सक्षम परिवहन व्यवस्था चाहता है। इसी के द्वारा पदार्थ के मूल्य में वृद्धि होती है। ⦁    संचार की नूतन उन्नतियों ने आर्थिक विकास को विशेष गति प्रदान की है। इसी के कारण समय की बचत होती है और मानव की कार्यक्षमता में वृद्धि होती है जिसका प्रत्यक्ष प्रभाव उत्पादन एवं राष्ट्रीय आय की वृद्धि पर पड़ता है। अत: दक्ष संचार व्यवस्था और तीव्रगामी परिवहन से आज विश्व ग्राम की संकल्पना सार्थक हो रही है तथा प्रकीर्ण लोगों के बीच सहयोग एवं एकता का विकास हो रहा है।

पर्यटन क्षेत्र का महत्व इस प्रकार है: यात्रा, पर्यटन और आतिथ्य बहुत सारी नौकरियां पैदा कर सकते हैं, जो भारत के जनसांख्यिकीय लाभांश के लिए महत्वपूर्ण है क्योंकि 72 प्रतिशत आबादी 32 वर्ष से कम आयु की है, जबकि औसत आयु 29 वर्ष है। यात्रा और पर्यटन उद्योग की एक बोनस विशेषता यह है कि यह न केवल उच्च गुणवत्ता वाली नौकरियां पैदा करता है, बल्कि यह भारत में निवेश को भी बढ़ावा देता है, विकास को गति देता है और भारत के अद्वितीय संसाधनों को बढ़ावा देता है, जिससे यह एक नरम कूटनीति उपकरण बन जाता है। 38 यूनेस्को विश्व धरोहर स्थलों से लेकर विभिन्न भौगोलिक विशेषताओं से लेकर चिकित्सा और वन्यजीव पर्यटन तक, भारत पर्यटन में अविश्वसनीय विविधता प्रदान करता है।

निबन्धात्मक प्रश्न

रेल परिवहन को देश की माल एवं यात्री के लिए महत्‍वपूण संसाधन है । यह देश के विभिन्‍न क्षेत्रों को जोडने का कार्य करता है। देश में दूर स्थिति क्षेत्रों के व्‍यक्ति को देश की यात्रा, तीर्थ यात्रा एवं शिक्षा के संस्‍थानों तक पहुचाने का कार्य करती है जिससे की एकता को बनाई रखती है । यह देश की आर्थिक जीवन को सुधार करने के लिए महत्‍व पूर्ण योग्‍दान है । भारत में रेल परिवहन की शुरूआत 16 अप्रैल 1853 मे हुआ जो की पहली रेलगाडी मुम्‍बई से ठाणें तक 34 किलोमीटर चली थी। फिर देश के दूर दराज के इलाको को जोडने ओर रेल्‍वे का विस्‍तार किया गाया था। जिससे की लोगों की व्‍यापार आथिक स्थिति की सुधार किया गया है और समय समय पर इसमें सुधार किया जाता है जो कि समय और आधुनिक परिवर्तन से जोडने का कार्य करती है जिसके अनुरूप सभी के यात्रा से साथ अनेक सुविधाये देने के लिए भी विस्‍तार की ओर कार्य कर रहा है । आधुनिक समय में जो कार्य कई सप्‍ताह बित जाते थे लेकिन रेल्‍वे के चलते आज वह एक या दो दिन में कार्य पूरा कर देती है ।  इसकी  सुधार के लिए नई समित‍ि का गठन किया गया है जिससे की समय रहते उन त्रुटियो को सूधारने के प्रयास में लगे रहते है इसमें लगभग 150 लोगाें को रोजगार उपलब्‍ध कराती है इससे की बेरोजगार लोगो को रोजगार मिल सके जिससे की लोगों के आर्थिक विकास में सहायता मिल सके

रेल्‍वे का विकास –

    देश की आर्थिक विकास के साथ – साथ सामाजिक विकास केलए रेलों के महत्‍व की ध्‍यान में रखकर जब पंचवर्षीय योजनाओ ने रेल्‍वे को विकास करने के लिए अधिक महत्‍व दिया है  चाहे वह पहली दूसरी तीसरी चौथी तथा पंचमी आदि सभी योजनाओं में बजट के अनुसार व्‍यय किया गया तथा सातवी योजना में रेल परिवहन पर 16549 करोड रूपये के लगभग व्‍यय किया गया था आठमी एवं नवींंयोजना में रेल परिवहन पर सुधार के लिए बजट के अनुसार व्‍यय किया गया है। 

1.कृषि के क्षेत्र में महत्‍व

 देश में रेलों का महत्‍व विभिन्‍न क्षेत्रों में है और सभी क्षेत्रों के अलग- अलग है जैसे कृषि के क्षेत्र में व्‍यापरियों को अपने समान को वहॉ तक पहुचाना जहाॅ पर उस वस्‍तु की कमी है जिससे उसको अधिक लाभ होता है और वह किसानों से अधिक मूल्‍य पर खरीदता जिससे की व्‍यापारियों के साथ साथ किसान को भी अच्‍छा लाभ मिलता है और देश की आर्थिक विकास को बनाने सहायता करता है ।

2 उद्योग के क्षेत्र में महत्‍व

  उद्योग में लगने वाले मशीनो के पार्ट एवं माल में शीघ्रता से पहुचाने में इसका अधिक महत्‍वपूर्ण है क्‍योंकि भारत में बहुत से ऐसे उद्योग है जो कि रेलों के चलते हि उनका उघोग चल रहा है । और जो उद्योग से निर्मित वस्‍तुओं को दूर दराज के देशें तक पहुचाने के लिए भी इसका महत्‍वपूर्ण स्‍थान है ।

3 आपातकालीन समय में नियंत्रण

जब किसी क्षेत्र में प्रकृृृतिक आपदाओं खाद्यानों सामाग्री एवं आवश्‍यक वस्‍तु को पहुचाने के लिए भी अधिक महत्‍वपूर्ण स्‍थान है जिससे की उनकी समस्‍याओं को समाधान का निराकरण किया जा सके।

4 सामाजिक क्षेत्र में महत्‍व

देश में समय के साथ समाज पर भी इसका महत्‍वपूर्ण स्‍थान है क्‍योंकि जो लोग गॉव से बाहर कार्य करने नहीं जाते थे आज वह सब लोग दूर दराज के राज्‍यों में कार्य करने के लिए जाते है जिससे कि शहर के साथ हि गॉव का भी विकास उसी हिसाब से होने लगा ।

पश्चिमी तट

कोच्चि बंदरगाह: केरल के कोच्चि में स्थित, यह भारत के दक्षिण-पश्चिमी तट पर एक महत्वपूर्ण बंदरगाह है।

कोलकाता बंदरगाह: पश्चिम बंगाल के कोलकाता में स्थित, यह भारत का सबसे पुराना परिचालन बंदरगाह है।

कांडला बंदरगाह: गुजरात के कांडला में स्थित, यह भारत में माल ढुलाई की मात्रा के हिसाब से सबसे बड़ा बंदरगाह है।

मर्मगाओ बंदरगाह: गोवा में स्थित, यह एक प्रमुख बंदरगाह है जो लौह अयस्क निर्यात के लिए जाना जाता है।

न्यू मैंगलोर बंदरगाह: कर्नाटक के मैंगलोर में स्थित, यह पश्चिमी तट पर भारत का एक प्रमुख बंदरगाह है।

मुंबई बंदरगाह (बॉम्बे पोर्ट): महाराष्ट्र के मुंबई में स्थित, यह भारत के सबसे पुराने और व्यस्ततम बंदरगाहों में से एक है।

जवाहरलाल नेहरू बंदरगाह (न्हावा शेवा): महाराष्ट्र के नवी मुंबई में मुंबई के पास स्थित, यह भारत का सबसे बड़ा कंटेनर बंदरगाह है।

वधावन बंदरगाह

पूर्वी तट

चेन्नई बंदरगाह: चेन्नई, तमिलनाडु में स्थित, यह पूर्वी तट पर भारत के प्रमुख बंदरगाहों में से एक है।

एन्नोर बंदरगाह: एन्नोर, तमिलनाडु में स्थित, यह मुख्य रूप से थर्मल कोयला और अन्य कार्गो को संभालता है।

पारादीप बंदरगाह: ओडिशा में स्थित, यह थोक कार्गो, विशेष रूप से लौह अयस्क निर्यात के लिए एक महत्वपूर्ण बंदरगाह है।

विशाखापत्तनम बंदरगाह: आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम में स्थित यह देश के सबसे बड़े और गहरे बंदरगाहों में से एक है।

वीओ चिदंबरनार बंदरगाह (पूर्व में तूतीकोरिन बंदरगाह): तमिलनाडु के थूथुकुडी में स्थित, यह भारत में सबसे तेजी से बढ़ते बंदरगाहों में से एक है।

पोर्ट ब्लेयर: पोर्ट ब्लेयर अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में है

Download Pdf

RCSCE Question Bank Class 10th Samaijk Vigyan 2024Download pdf
Download this answer Key as PdfDownload Now

Read also

Class 10th English RCSCE Question Bank Complete SolutionRead here
Class 10th Hindi RCSCE Question Bank Complete SolutionRead here
Class 10th Science RCSCE Question Bank Complete SolutionRead here
Class 10th Samajik Vigyan RCSCE Question Bank Complete SolutionRead here
Class 10th Mathematics RCSCE Question Bank Complete SolutionRead here
Class 10th Sanskrit RCSCE Question Bank Complete SolutionRead here